पल

हम बैठे है मश्घुल
आने पलोके ख्वाब मे,
भूल जाते है हम के
कोई एक पल हातसे छूटा है

Leave a Reply