पल

हम बैठे है मश्घुल
आने पलोके ख्वाब मे,
भूल जाते है हम के
कोई एक पल हातसे छूटा है

Leave a Reply

Proudly powered by WordPress | Theme: Baskerville 2 by Anders Noren.

Up ↑

%d bloggers like this: