जहांकी रीत

इस जहांकी रीत कितनी बेगानी
मगर है तो ये बहोतही पुरानी
कूच बोलू तो सब कहे चूप हो जा,
खामोश को पुछे उसकी कहानी …

Leave a Reply